उच्च रिटर्न के साथ सबसे अच्छा निवेश योजना

हिंदी

जोखिम और रिटर्न हर व्यक्ति के जीवन में दो महत्वपूर्ण शर्तें हैं। कार के मालिक या अकेले नियमित आय वाले न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न घर खरीदने जैसे जीवन लक्ष्यों को हासिल करना संभव नहीं है। एक को धन जमा करने के लिए वापसी पैदा करने वाले उपकरणों में अपने पैसे को बचाने और निवेश करना होगा। प्रत्येक निवेश साधन इसके साथ जुड़े जोखिम के एक निश्चित स्तर के साथ आता है। यह अक्सर कहा जाता है , रिटर्न उच्च , उच्च जोखिम होगा। हालांकि , स्मार्ट मनी मैनेजमेंट आपको जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है जबकि साथ ही उच्च रिटर्न सुनिश्चित कर सकता है।

जोखिम मुक्त क्या है?

जोखिम मुक्त के रूप में कितना जोखिम माना जा सकता है ? आम तौर पर , इक्विटी जैसे उच्च रिटर्न देने वाले निवेश अपेक्षाकृत जोखिम भरा होते हैं। स्पेक्ट्रम के दूसरे छोर पर एक बैंक निश्चित जमा या संप्रभु समर्थित निवेश की तरह बेहद सुरक्षित निवेश कर रहे हैं। इन निवेशों को सुरक्षित माना जाता है लेकिन कम से कम रिटर्न प्रदान किया जाता है। उच्च रिटर्न के साथ सर्वश्रेष्ठ निवेश योजना एक है जो उच्च रिटर्न सुनिश्चित करता है लेकिन इसके साथ जुड़े जोखिम को समाप्त करता है। यह उल्लेख किया जाना चाहिए कि कोई निवेश पूरी तरह से जोखिम रहित नहीं है , हालांकि , उचित योजना के साथ जोखिम को नगण्य बनाया जा सकता है।

भारत में उच्च रिटर्न के साथ सबसे अच्छा निवेश योजनाओं के साथ शुरू करने के लिए , न्यूनतम रिटर्न का स्तर निर्धारित करना महत्वपूर्ण है। हमें उम्मीद करने के लिए रिटर्न के न्यूनतम स्तर के रूप में बैंक निश्चित जमा द्वारा वितरित रिटर्न लेते हैं। बैंक तय जमा प्रतिवर्ष 7% के आसपास के क्षेत्र में रिटर्न की पेशकश करते हैं। उच्च रिटर्न और कम जोखिम वाले निवेश के रूप में माना जाने के लिए , एक उपकरण को न्यूनतम जोखिम के साथ एक वर्ष में 7% से अधिक उत्पन्न करना होगा। जोखिम को कम करने का एक तरीका कम जोखिम वाले निवेश विकल्पों जैसे निश्चित जमा , आवर्ती जमा और अल्पकालिक ऋण निधि में निवेश करना है। कम जोखिम वाले उत्पादों में निवेश उच्च रिटर्न उत्पन्न नहीं करेगा। हालांकि , उद्देश्य उन उपकरणों में निवेश करना चाहिए जो काफी रिटर्न उत्पन्न करते हैं और स्मार्ट प्लानिंग के साथ जोखिम को कम करने का प्रयास करते हैं।

कैसे उच्च वापसी निवेश विकल्पों के जोखिम को कम करने के लिए?

उच्च रिटर्न के साथ सबसे अच्छा निवेश योजनाओं को प्राप्त करने का पहला कदम पैसे की तैनाती की योजना बनाना है। यह चार चरणों में हासिल किया जा सकता है

— नियमित रूप से सहेजें और निवेश करें : कोई नियमित रूप से निवेश किए बिना कॉर्पस नहीं बना सकता है। ऐसे निवेश सेट करें जिनके लिए नियमित रूप से योगदान की आवश्यकता होती है जैसे व्यवस्थित निवेश योजना ( एसआईपी ) या आवर्ती जमा।

— फिक्स्ड रिटर्न प्लान : जो पैसा आप बचाते हैं वह निष्क्रिय नहीं होना चाहिए। जैसे ही पैसा निवेश के लिए अलग रखा जाता है , इसे रिटर्न उत्पन्न करना शुरू कर देना चाहिए। यह सुनिश्चित करने का एक आसान तरीका है कि आपका पैसा बेकार न हो , वह ऋण निधि में निवेश करना है। अल्पावधि ऋण फंड निवेश किए गए धन पर निश्चित रिटर्न प्रदान करेगा।

— धैर्यपूर्वक प्रतीक्षा करें : जो पैसा आपने अलग रखा है वह ऋण निधि में एक निश्चित राशि अर्जित कर रहा है , लेकिन यह लंबे समय में उच्च रिटर्न उत्पन्न नहीं करेगा। रिटर्न में सुधार करने के लिए , आपको बाजार में समय देना होगा और फिक्स्ड रिटर्न इंस्ट्रूमेंट से इक्विटी जैसे उच्च – रिटर्न निवेश में धन शिफ्ट करना होगा। इक्विटी बाजारों में निवेश करने से पहले धैर्यपूर्वक प्रतीक्षा करें और सबसे अनुकूल समय पर प्रवेश करें।

— उच्च रिटर्न योजनाओं में निवेश करें : उच्च रिटर्न अर्जित करने के लिए , आपको ऋण निधि से उच्च – वापसी योजनाओं तक कॉर्पस के स्वचालित स्विचिंग को प्रोग्राम करना होगा।

उच्च वापसी की न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न योजना क्या हैं?

सवाल उठता है कि उच्च वापसी की योजना क्या हैं ? उच्च वापसी की योजना उच्च रिटर्न , उच्च रिटर्न और उच्च रिटर्न के साथ मासिक निवेश योजना के न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न साथ सबसे अच्छा निवेश योजना के साथ अल्पकालिक निवेश की योजना का एक संयोजन होना चाहिए। भारत में उच्च रिटर्न वाली कुछ बेहतरीन निवेश योजनाएं मूल्य स्टॉक , लाभांश भुगतान करने वाले शेयरों , सेक्टर फंड और किराये की संपत्ति हैं।

सर्वोत्तम मूल्य शेयरों पर शून्य करने के लिए , कुछ ब्लू – चिप कंपनियों को शॉर्टलिस्ट करें और उनकी कीमत की निगरानी शुरू करें। शेयर विश्लेषण के माध्यम से विचाराधीन शेयरों का आंतरिक मूल्य प्राप्त करें। जैसे ही स्टॉक की कीमत आंतरिक मूल्य से नीचे आती है , स्टॉक में निवेश करें।

शेयर बाजार में हमेशा कुछ क्षेत्र होते हैं जो संभावित होते हैं लेकिन कुछ समय के लिए निवेशकों के पक्ष में आते हैं। उदाहरण के लिए , कोविड -19 महामारी हिट से पहले फार्मा क्षेत्र कई वर्षों तक कम प्रदर्शन कर रहा था। ऐसे क्षेत्रों की पहचान करें और एक एसआईपी शुरू करें जो इस क्षेत्र में निवेश करता है। इसके अलावा शेयर बाजार से , आप भी अचल संपत्ति है कि किराये की आय उत्पन्न में निवेश कर सकते हैं। छोटे आवास के लिए चुनते हैं क्योंकि वे सस्ते होते हैं और सही स्थान चुनते हैं।

कम जोखिम के साथ उच्च रिटर्न कमाई आसान नहीं है , लेकिन यह असंभव भी नहीं है। भारत में उच्च रिटर्न के साथ सर्वोत्तम निवेश योजना को अनलॉक करने की कुंजी एक व्यावहारिक योजना तैयार करना और इसके साथ रहना है। योजना भी एक व्यावहारिक निकास रणनीति होना चाहिए। यह याद रखने योग्य है कि सही समय पर आपके निवेश को समाप्त करना निवेश के रूप में महत्वपूर्ण है।

निवेश कर अमीर बनने के ये हैं 10 बेहतरीन विकल्प

सचाई यह है कि कम जोखिम के साथ बेहतरीन रिटर्न नहीं कमाया जा सकता. वास्तव में जहां रिटर्न अधिक होगा, वहां जोखिम भी अधिक होगा.

निवेश कर अमीर बनने के ये हैं 10 बेहतरीन विकल्प

निवेश के किसी विकल्प को चुनते वक्त आपको जोखिम उठाने की अपनी क्षमता के बारे में जानना-समझना जरूरी है. कुछ निवेश ऐसे हैं जिनमें लंबी अवधि में अधिक जोखिम के साथ अधिक रिटर्न का मौका मिलता है.

निवेश के वास्तव में दो तरीके हैं-वित्तीय और गैर वित्तीय निवेश विकल्प.

इसे भी पढ़ें: कैसे ट्रांसफर करें PPF अकाउंट?

वित्तीय प्रोडक्ट में आप शेयर बाजार से संबद्ध विकल्प (शेयर, म्यूचुअल फंड) चुन सकते हैं या फिक्स्ड इनकम (PPF, बैंक FD आदि) के विकल्प चुन सकते हैं. गैर वित्तीय निवेश विकल्प में सोना, रियल एस्टेट आदि आते हैं. ज्यादातर भारतीय निवेश अब तक निवेश के इसी गैर वित्तीय निवेश विकल्प न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न का प्रयोग करते रहे हैं.

हम आपको यहां बता रहे हैं निवेश के शीर्ष 10 विकल्प:

शेयरों में निवेश
हर किसी के लिए शेयरों में सीधे निवेश करना आसान नहीं है. इसमें रिटर्न की कोई गारंटी भी नहीं है. सही शेयरों का चुनाव मुश्किल काम है, इसके साथ ही शेयर की सही समय पर खरीदारी और सटीक वक्त पर निकलना महत्वपूर्ण है. निवेश के अन्य विकल्पों की तुलना में शेयर में लंबी अवधि में रिटर्न देने की क्षमता सबसे अधिक होती है.

sdMaster

इक्विटी म्यूचुअल फंड
म्यूचुअल फंड की यह कैटेगरी शेयरों में निवेश से ही रिटर्न कमाती है. सेबी के निर्देश के मुताबिक जो म्यूचुअल फंड स्कीम अपने फंड का 65% शेयरों में निवेश करती है, वह इक्विटी म्यूचुअल फंड कहलाती है. इसमें एक फंड मैनेजर होता है जो पर्याप्त रिसर्च के बाद निवेश के लायक शेयर चुनता है और उसमें निवेश करता है.

इक्विटी स्कीम बाजार पूंजीकरण या सेक्टर के हिसाब से अलग हो सकती हैं. इस समय इक्विटी म्यूचुअल फंड का एक, तीन या पांच साल का रिटर्न 15फीसदी सालाना के हिसाब से रहा है.

डेट म्यूचुअल फंड
म्यूचुअल फंड की यह कैटेगरी उन निवेशकों के लिए सही है जो निवेश से गारंटीड रिटर्न कमाना चाहते हैं. ये म्यूचुअल फंड कॉरपोरेट बांड्स, सरकारी सिक्योरिटीज, ट्रेजरी बिल्स, कमर्शियल पेपर आदि में निवेश से रिटर्न कमाती है. इस समय डेट म्यूचुअल फंड का एक, तीन या पांच साल का रिटर्न 6.5, 8 और 7.5 फीसदी सालाना के हिसाब से रहा है.

नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS)
नेशनल पेंशन सिस्टम (nps) का प्रदर्शन पिछले कुछ सालों में अच्छा रहा है. बहुत कम फीस स्ट्रक्चर भी इसे निवेश का आकर्षक विकल्प बनाता है. बाजार से जुड़े उत्पादों में देश में यह सबसे कम खर्च वाला प्रोडक्ट है. निकासी संबंधी नियमों में बदलाव और अतिरिक्त टैक्स-छूट की वजह से भी यह निवेशक की पसंद में शामिल हो गया है.

एनपीएस बच्चों की शिक्षा, शादी, घर बनाने या किसी मेडिकल इमरजेंसी की स्थिति में आंशिक निकासी की सुविधा देता है. इसमें हालांकि रिटायरमेंट के बाद भी आपको निवेश में बने रहना जरूरी होता है. यह वास्तव में शेयर, FD, कॉरपोरेट बांड, लिक्विड फंड और सरकारी निवेश विकल्प का मिला जुला रूप है.

इस समय न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न NPS का एक, तीन या पांच साल का रिटर्न 9.5, 8.5 और 11 फीसदी सालाना के हिसाब से रहा है.

पीपीएफ
देश में निवेशकों के बीच पीपीएफ सर्वाधिक लोकप्रिय बचत योजनाओं में से एक है. इनकम टैक्स कानून के सेक्शन 80C के तहत किसी एक वित्त वर्ष में आप पीपीएफ में 1.5 लाख रुपये के निवेश पर टैक्स छूट प्राप्त कर सकते हैं.

निवेश के इस विकल्प की सबसे अच्छी बात यह है कि यह आपको EEE (निवेश के वक्त करमुक्त, ब्याज पर करमुक्त, निवेश भुनाने पर करमुक्त) का लाभ देता है.
निवेश के इस विकल्प में सरकारी गारंटी इसकी लोकप्रियता को और बढ़ा देती है.

बैंक FD
बैंक या पोस्ट ऑफिस में कराई जाने वाली टैक्स सेविंग FD से आप निवेश के वक्त सेक्शन 80C के तहत टैक्स बचा सकते हैं. यह निवेश का सुरक्षित और गारंटीड रिटर्न वाला विकल्प है. इस पर मिलने वाले ब्याज पर आपको इनकम टैक्स स्लैब के हिसाब से टैक्स चुकाना पड़ता है.

डिपाजिट इंश्योरेंस एवं क्रेडिट गारंटी कॉर्पोरेशन के हिसाब से आपकी एक लाख रुपये तक की जमा रकम बीमित है.

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS)
पोस्ट ऑफिस की तरफ से बेस्टसेलर के रूप में यह स्कीम रिटायर्ड लोगों के लिए निवेश का पसंदीदा स्रोत है. यह सेवानिवृत लोगों के लिए आय का नियमित स्रोत भी है. इस स्कीम की अवधि पांच साल है जिसे तीन साल के लिए और बढ़ाया जा सकता है.

इसमें हालांकि प्रति व्यक्ति 15 लाख रुपये की अधिकतम निवेश सीमा है. यह 60 साल से अधिक उम्र के निवेशकों के लिए ही खुली है, हालांकि सेना से रिटायर मेंट लेने वाले लोगों के लिए उम्र न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न की कोई सीमा नहीं है.

विशेषज्ञों का मानना है कि जीवन भर की बचत को पार्क करने और उस पर कमाई के हिसाब से यह स्कीम बेहतरीन है. यह सेवानिवृत लोगों की जरूरत के हिसाब से बनाया गया है.

रिजर्व बैंक के टैक्सेबल बांड्स
पहले इस स्कीम में आठ फीसदी सालाना का ब्याज मिलता था जिसे सरकार ने बदल कर अब 7.75 फीसदी ब्याज वाला विकल्प बना दिया है. इस बांड में पांच साल के लिए निवेश किया जा सकता है.

रियल एस्टेट
खुद के रहने के हिसाब से घर खरीदना अब निवेश के लिहाज से भी आकर्षक विकल्प बनकर उभरा है. अगर आपको रहने की जरूरत नहीं है तो आप निवेश के हिसाब से भी दूसरा घर खरीद सकते हैं. निवेश के इस विकल्प में आपको सिर्फ प्रॉपर्टी की लोकेशन और वहां मौजूद सुविधाओं का ध्यान रखने की जरूरत है.

इसमें निवेश से आप पूंजी में इजाफा और किराये से आमदनी, दो तरीके से रिटर्न कमा सकते हैं.

सोना
निवेश का यह विकल्प सदियों से भारतीयों की पसंद में शामिल है, पहनने के लिए खरीदी जाने वाली ज्वेलरी से लेकर निवेश के रूप में खरीदे गए सिक्के और बार तक, सोना बिना किसी संदेह के भारतीयों की पसंद में सबसे ऊपर है. अब आप पेपर गोल्ड के रूप में भी सोने में निवेश कर सकते हैं.

गोल्ड ETF में निवेश करना और भुनाना दोनों ही शेयर बाजार के जरिये होता है.

आप क्या करें
निवेश के कुछ विकल्प शेयर बाजार से संबद्ध हैं तो कुछ निश्चित ब्याज वाले हैं. आप जोखिम लेने की अपनी क्षमता के हिसाब से ही रिटर्न की उम्मीद रखें.

हिन्दी में शेयर बाजार और पर्सनल फाइनेंस पर नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. पेज लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें

छोटी अवधि में कमाना चाहते हैं बड़ा मुनाफा? इन विकल्पों पर डालें नजर, सुरक्षित निवेश और जोरदार रिटर्न

लंबी अवधि के साथ-साथ लोगों को छोटी अवधि के निवेश पर भी ध्यान देना चाहिए.

लंबी अवधि के साथ-साथ लोगों को छोटी अवधि के निवेश पर भी ध्यान देना चाहिए.

लिक्विड फंड का इस्तेमाल न्यूनतम एक दिन से लेकर 90 दिनों तक के निवेश के लिए किया जा सकता है. जैसे ही आप इसे रीडीम करते ह . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : November 02, 2022, 17:10 IST

हाइलाइट्स

एक आर्बिट्राज फंड में इक्विटी और फ्यूचर्स दोनों शामिल होते हैं.
मनी मार्केट फंड म्यूचुअल फंड्स में से सबसे कम जोखिम वाले प्रोडक्ट हैं
पोस्ट ऑफिस टर्म डिपॉजिट सबसे सुरिक्षत न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न निवेश विकल्पों में से हैं.

नई दिल्ली. पैसों के लिए काम मत कीजिए, अपने पैसों को काम पर लगाइए. ये कहावत उन लोगों के लिए एकदम सटीक बैठती है जो ये जानते हैं कि उन्हें कहां निवेश करना है और कहां नहीं. अगर आप समझ-बूझ के साथ अपने पैसों को किसी निवेश विकल्प में लगाते हैं तो उसके डूबने की आशंका काफी कम हो जाती है. साथ ही आप पैसे से पैसा बनाने लगते हैं. इसके लिए सबसे जरूरी है कि आप सही निवेश विकल्पों का चयन करें.

लंबी अवधि के निवेश हमेशा हमारा ध्यान खींचते हैं लेकिन हमें छोटी अवधि के निवेश विकल्पों पर भी ध्यान देना चाहिए. ऐसे ऑप्शंस जो आपके पैसे को 1-5 साल में डबल कर दें. आज हम इन्हीं इन्वेस्टमेंट ऑप्शनकी बात करेंगे.

अल्ट्रा शॉर्ट ड्यूरेशन फंड्स
यह एक डेट फंड है जो कंपनियों को 3 से 6 महीने के लिए उधार देता है. इन फंडों की ऋण अवधि कम होती है, इसलिए इनमें थोड़ा अधिक जोखिम होता है. हालांकि, ये तब भी निवेश के लिए सबसे कम जोखिम वाली योजनाओं में से एक हैं. कम-से-कम तीन महीने के लिए निवेश करने पर यहां पैसा डूबने की आशंका न के बराबर होगी. समान अवधि की एफडी में मुकाबले ये योजनाएं थोड़ा अधिक रिटर्न प्रदान करती हैं.

लिक्विड फंड्स
लिक्विड फंड का इस्तेमाल न्यूनतम एक दिन से लेकर 90 दिनों तक के निवेश के लिए किया जा सकता है. जैसे ही आप इसे रीडीम करते हैं, पैसा आपके खाते में दो से तीन व्यावसायिक दिनों के भीतर जमा कर दिया जाता है. इसके नेट एसेट वैल्यू में बहुत कम गिरावट देखने को मिलती है. लिक्विड फंड पर टैक्स के बाद रिटर्न 4% से 7% के बीच होता है.

आर्बिटराज फंड
एक आर्बिट्राज फंड में इक्विटी और फ्यूचर्स दोनों शामिल होते हैं. इसमें आपको 8% -9% के वार्षिक रिटर्न मिल सकता है. इनका एक बड़ा लाभ ये है कि इन पर इक्विटी फंड की तरह पैसा लगाया जाता है. हालांकि, लॉन्ग टर्म गेन पर इक्विटी में 10 फीसदी का टैक्स लगता और तब इससे होने वाला लाभ कम लग सकता है.

मनी मार्केट फंड
ये म्यूचुअल फंड्स में से सबसे कम जोखिम वाले प्रोडक्ट हैं. आमतौर पर, मनी मार्केट फंड अल्पकालिक सरकारी निवेश विकल्पों, जैसे कॉल मनी मार्केट, कमर्शियल पेपर, ट्रेजरी बिल और तीन महीने से एक साल के बीच मैच्योरिटी वाली बैंक सीडी में निवेश करते हैं. डिफ़ॉल्ट और ब्याज दर में उतार-चढ़ाव का जोखिम न्यूनतम है.

पोस्ट ऑफिस टर्म डिपॉजिट
पीओटीडी आपके घर के पास के किसी भी डाकघर में एक साल के लिए खोले जा सकते हैं. भारत सरकार इन पर बैंक FD की तरह पूरी तरह से गारंटी देती है. इन पर एक साल का लॉक-इन पीरियड होता है, लेकिन किसी आपात न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न स्थिति में इन्हें गिरवी रखकर इनके मूल्य की 75% रकम उठाई जा सकती है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

वेतनभोगी व्यक्ति के लिए 6 सर्वश्रेष्ठ निवेश विकल्प

एक मजबूत वित्तीय रीढ़ बनाने के लिए, किसी को सही वित्तीय साधन में पैसे का निवेश करना चाहिए। हालांकि, हर निवेश पर्याप्त रिटर्न की गारंटी नहीं देता है, लेकिन, अगर आप समझदारी से और अच्छी मात्रा में निवेश करते हैं, तो स्वस्थ रिटर्न हासिल करने की न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न संभावना अधिक होती है। विशेष रूप से, एक वेतनभोगी व्यक्ति जिसे एक निर्धारित . के भीतर निवेश और खर्चों का प्रबंधन करना होता हैआय. इसलिए, एक वेतनभोगी व्यक्ति को अपने लिए सबसे अच्छा निवेश विकल्प निर्धारित करते समय राशि, जोखिम, जोखिम और रिटर्न पर विचार करने की आवश्यकता होती है।

Salaried-Person

इसलिए, यदि आप एक सुरक्षित निवेश विकल्प की तलाश में हैं, तो यहां 2022 में निवेश के कुछ बेहतरीन विकल्प दिए गए हैं।

1. सावधि जमा में निवेश करें

ज्यादातर लोग मानते हैंसावधि जमा उनके हिस्से के रूप में निवेशसेवानिवृत्ति निवेश विकल्प क्योंकि यह न्यूनतम निवेश के साथ सर्वोत्तम रिटर्न 15 दिनों से लेकर पांच साल (और अधिक) तक की निश्चित परिपक्वता अवधि के लिए बैंकों में पैसा जमा करने में सक्षम बनाता है और यह अन्य पारंपरिक की तुलना में अधिक ब्याज दर अर्जित करने की अनुमति देता है।बचत खाता. परिपक्वता के समय के दौरान,इन्वेस्टर एक रिटर्न प्राप्त करता है जो मूलधन के बराबर होता है और सावधि जमा की अवधि में अर्जित ब्याज भी

बैंक सावधि जमा इनमें से एक हो सकता हैसर्वश्रेष्ठ लघु अवधि निवेश विकल्प, क्योंकि ये सुरक्षित निवेश हैं। साथ ही, कई बैंक FD पर बेहतर ब्याज दर प्रदान करते हैं, जो आमतौर पर 3 प्रतिशत से 7 प्रतिशत प्रति वर्ष तक होती है। निवेशक अपना पैसा कम से कम सात दिनों से लेकर अधिकतम 10 साल तक के लिए रख सकते हैं।

2. आवर्ती जमा में निवेश करें

3. व्यवस्थित निवेश योजना (एसआईपी) में निवेश करें

वेतनभोगी लोग विचार कर सकते हैंनिवेश एक इक्विटी उन्मुख उत्पाद में। में निवेश करते समयइक्विटी फ़ंडएक व्यवस्थित तरीका अपनाने पर विचार करना चाहिए, यानी एक ही बार में सारा पैसा लगाने के बजाय हर महीने एक निश्चित राशि लगानी चाहिए। साथ ही, इक्विटी फंड में जोखिम और रिटर्न की उम्मीद के अनुसार निवेश में विविधता लानी चाहिए। आदर्श रूप से, एक वेतनभोगी व्यक्ति को अच्छा रिटर्न अर्जित करने के लिए लंबी अवधि के लिए निवेशित रहना चाहिए।

चूंकि इक्विटी फंड में विभिन्न श्रेणियां होती हैं, निवेशक मध्यमजोखिम उठाने का माद्दा लार्ज-कैप या मल्टी-कैप इक्विटी फंड के लिए जा सकते हैं और उच्च जोखिम वाले निवेशक इनमें निवेश कर सकते हैंमध्यम दर्जे की कंपनियों के शेयर तथाछोटी टोपी निधि। के माध्यम से इक्विटी निवेशसिप मोड लंबी अवधि में जोखिम को कम करता है।

बेस्ट इक्विटी एसआईपी म्यूचुअल फंड 2022

कुछ केसर्वश्रेष्ठ म्युचुअल फंड से अधिक संपत्ति वाले भारत में निवेश करने के लिए 300 करोड़ और सबसे अच्छा सीएजीआर पिछले 5 वर्षों के रिटर्न हैं:

रेटिंग: 4.39
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 597